top of page

३३ कोटि देवता



सनातन धर्म में 33 करोड़ नहीं 33 प्रकार के देवी देवता हैं।

देवभाषा संस्कृत में कोटि के दो अर्थ होते हैं ।

कोटि का मतलब प्रकार होता है और एक अर्थ करोड़ भी होता है।

बृहदरण्यक उपनिषद में कहा गया है कि कुल 33 प्रकार के देवी देवता हैँ हिंदू धर्म में - १२ आदित्य, ११ रुद्र, ८ वसु, १ इंद्र, १ प्रजापति।


८ वसु :

धर - earth

ध्रुव - star

सोम - moon

अप - water

अनिल - wind

अनल - fire

प्रत्युष - light

प्रभाष - dawn

उन्हें वसु इसलिए कहा जाता है क्योंकि उनमें सारा ब्रह्मांड निवास करता है।


11 रुद्र:

5 ज्ञान इंद्रिया (संवेदी अंग)

5 कर्म इंद्रिय (कर्म और मन के अंग)

1 आत्मा

अलग-अलग उपनिषदों में रुद्रों को अलग-अलग नाम दिए गए हैं।

उन्हें रुद्र कहा जाता है क्योंकि जब ये सभी इंद्रियां और आत्मा शरीर छोड़ देते हैं, तो एक व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है, जो दूसरों को रुलाती है। रोने को 'रोदन' के नाम से जाना जाता है और इसलिए इसे रुद्र कहा जाता है।


१२ आदित्य:

मित्र - friend

आर्यमा - destroyer of foes

शक्रा - mighty

वरुण - one who binds

अँश -liberal

भाग - giver

पूषन - nourisher

सविता - vivifier

त्वस्त्र - shaper

विष्णु - pervader

दक्ष - skilful

विवास्वत - resplendent

आदित्य का अर्थ है सूर्य। आदित्य के बारह नाम हिंदू कैलेंडर के बारह महीने हैं और यह सूर्य के 12 पहलुओं को दर्शाता है।


1 इंद्र - देवताओं के राजा

1 प्रजापति - सभी प्राणियों के स्वामी


यह 33 कोटि देवता का विस्तृत वर्णन है। विभिन्न उपनिषदों में इनका विवरण दिया गया है।



15 views0 comments

Recent Posts

See All

Comments


bottom of page