top of page

अव्यवस्था से व्यवस्था

शांति की ओर मेरी यात्रा तब शुरू हुई जब मैंने 2018 में अतिसूक्ष्मवाद (मिनीमलिस्म) का पालन करना शुरू किया।

अतिसूक्ष्मवाद (मिनीमलिस्म) के अनुयायी के रूप में मैंने सीखा है कि आंतरिक शांति के लिए कम हमेशा अधिक होता है।


कम खर्च, अधिक वित्तीय स्वतंत्रता

कम संपत्ति - अधिक सिस्टम

कम अपेक्षाएं - अधिक खुशी

कम विचार - अधिक स्पष्टता

कम शब्द - अधिक मौन

कम सब कुछ - अधिक शांति

कम होने के लिए, पहले यह सुनिश्चित करना भी बहुत महत्वपूर्ण है कि आपके पास जो पहले से है उसका आप निकाल कर दें।


आज का विषय हमारे जीवन के सबसे बुनियादी लेकिन बहुत महत्वपूर्ण व्यक्तिगत क्षेत्र में से एक है जो हमारी शांति को दूर कर रहा है - हमारे घर की अव्यवस्था।


यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप उन चीजों को छोड़ रहे हैं जिनकी आपको वास्तव में अब आवश्यकता नहीं है या जो आपके पास एक से ज़्यादा है।


सचमुच? मेरे घर की अव्यवस्था मेरी मानसिक शांति को कैसे छीन लेती है?


  • घर की अव्यवस्था हमारे दिमाग को और कन्फ़्यूज़ कर देती है - क्योंकि हम भूलते रहते हैं कि क्या कहाँ रखा है और फिर निराश होकर दूसरा खरीद लेते हैं, जिसके परिणामस्वरूप अव्यवस्था और बढ़ जाती है। यह एक चक्रव्यूह है और हमें इसे तोड़ने की जरूरत है।

  • सिस्टम के अभाव में चिंता उत्पन्न होती है

  • समय की बर्बादी : क्योंकि हमें अव्यवस्था से छोटी-छोटी चीजों को ढूँढना पड़ता है जैसे क्या पहनना है, क्या खरीदना है आदि

  • यह हमारा ध्यान हटा देता है, जिसका असर हमारे परिणाम पर होता है।

तो अपने घर के चारों ओर देखो - अगर आपको अव्यवस्था मिलती है और अगर आपको नया सामान खरीदने की इच्छा होती है, तो समय बर्बाद करने से बचने के लिए, अपनी इच्छा को वहीं रोक दें। क्योंकि यदि आप किसी नए के लिए जाते हैं, तो आप केवल अपनी अव्यवस्था बढ़ा रहे हैं।


एक ही उपाय है - व्यवस्था ।



हमने एक सुंदर मिनी किट तैयार की है जहां आपको ७ दिनों के लिए अपना 10-15 मिनट का समय देना है और आप अव्यवस्था से व्यवस्था की और बढ़ सकते है। यह किट बिल्कुल मुफ्त है। किट का लिंक इधर है।


6 views0 comments

Recent Posts

See All

Comments


bottom of page